सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कैसे आल्हा ऊदल ने अपने पिता का प्रतिशोध लिया

कैसे आल्हा ऊदल ने अपने पिता का प्रतिशोध लिया 


यह बात है 1165 की, उस समय महोबा में, चंदेल राजा परमर्दिदेव का राज्य था। वे राजा परमार के नाम से विख्यात थे। राजा परमार मध्य भारत के सबसे शक्तिशाली और महान हिंदू चंदेल सम्राटों में से एक थे। उन्होंने 1167 ईस्वी में, उरई के परिहार राजा को पराजित कर, वहां की राजकुमारी मलहना से विवाह किया, और उनकी दो बड़ी बहन देवल और तिलका का विवाह, अपने सेनापति और दूर के भाई दसराज और वत्सराज से करवा दिया। इन सभी बहनों का एक भाई था, जिसका नाम मामा माहिल था। माहिल एक बहुत ही कुटिल व्यक्ति था। 


राजा परमार के तीन पुत्र हुए, तथा सेनापति दसराज और वत्सराज को दो-दो पुत्रों की प्राप्ति हुई, जिनका नाम आल्हा और ऊदल तथा मलखान और सुलखान रखा गया। राजा परमार उस समय मध्य भारत के एक शक्तिशाली सम्राट थे। उन्होंने अपने शक्तिशाली सेनापति दसराज और वत्सराज के नेतृत्व में, अपने आसपास के राज्यों को जीत लिया था। इनके राज्य की सीमा मांडू को छूने लगी थी, उस समय मांडू के राजा जंभे थे, जिनके पुत्र का नाम राय करिंगा था। 

आल्हा-ऊदल-की-कहानी, alha-udal-ki-kahani, true-story-in-hindi, Historical-Story, hindi-kahani, Story-in-Hindi, Stories-in-Hindi, Hindi-Kahani, Hindi-Kahaniyan, Hindi-Kahaniya, kahani, kahani-in-hindi,
Alha Udal Ki Kahani

महोबा राज्य की बढ़ती हुई शक्ति को देख, राय करिंगा ने एक विशाल सेना लेकर महोबा राज्य पर आक्रमण कर दिया। उधर महोबा राज्य से भी सेनापति दक्षराज और वत्सराज अपनी सेना लेकर निकल पड़े। रणभूमि में दोनों सेनाओं के बीच घमासान युद्ध हुआ, इस युद्ध में दक्षराज और वत्सराज ने ऐसा पराक्रम दिखाया, की मांडू की सेना पीछे हटने लगी। यह युद्ध कई दिनों तक चला, लेकिन मांडू की सेना दक्षराज और वत्सराज के पराक्रम का सामना नहीं कर पा रही थी। 


अपनी सेना को हारता देख मांडू के राजकुमार राय करिंगा ने एक चाल चली, और उसने रात्रि में महोबा की सेना पर आक्रमण कर दिया। उस समय महोबा की सेना अपने शिविर में सो रही थी, इसी आक्रमण के दौरान महोबा की सेना के दोनों सेनापति दक्षराज और वत्सराज गिरफ्तार कर लिए गए। उन दोनों को गिरफ्तार करके मांडू ले जाया गया। मांडू में उन दोनों सेनापतियों को भयानक सजा दी गई, और उन्हें कोल्हू में पिसवा कर उनके सर धड़ से अलग कर दिए गए। इसके बाद उन दोनों के सिरों को बरगद के पेड़ की सबसे ऊंची डाल पर टांग दिया गया। 


महोबा की सेना के दोनों सेनापतियों के सर बरगद के पेड़ पर टांग कर, मांडू राज्य ने यह संदेश दिया था, कि मांडू राज्य से जो भी शत्रुता करेगा उसका यही अंजाम होगा। सेनापति दक्षराज के पुत्रों के नाम आल्हा और उदल थे। आल्हा पहले ही हो चुके थे, जबकि उदल पिता की वीरगति के समय अपनी माता के गर्भ में थे। जिस दिन उदल का जन्म हुआ, उस दिन एक भूकंप के कारण महोबा की धरती ढाई हाथ धंस गई थी।उदल की माता देवल ने सोचा, इसके गर्भ में आते ही इसके पिता की मृत्यु हो गई, और इसके जन्म पर भयानक भूकंप आ गया। 


देवल ने इसे एक अपशकुन माना, इसलिए वे उदल को त्यागना चाहती थी। अतः रानी मल्हना ने उदल की परवरिश की, रानी मलहमा को उदल की धर्म माता भी माना जाता है। सेनापति वत्सराज की पत्नी तिलका देवी से मलखान और सुलखान का जन्म हुआ, यह दोनों भाई भी आल्हा और उदल की तरह पराक्रमी योद्धा हुए। मलखान युद्ध के समय कई घोड़ों से चलने वाले विशाल रथ में बैठकर युद्ध के लिए उतरता था, तथा उसका भाई सुलखान अपने भाई के रथ का सारथी बनता था। दोनों भाई मिलकर युद्ध में ऐसा पराक्रम दिखाते थे, जिसे देखकर कोई भी सेना भयभीत हो जाती थी। 


रानी मल्हना के भी तीन पुत्र हुए, जिनका नाम ब्रह्मजीत, इंद्रजीत और रणजीत था। इनके अलावा महोबा के राजपुरोहित का एक पुत्र था, जिसका नाम देवा था। वह आल्हा-उदल और मलखान-सुलखान का परम मित्र था। इस प्रकार यह सभी राजकुमार, आल्हा-उदल, मलखान-सुलखान, ब्रह्मजीत-इंद्रजीत-रणजीत और देवा, ये सभी धीरे-धीरे बड़े हो रहे थे। आगे चलकर ये सभी राजकुमार पराक्रमी योद्धा हुए। 


इन सभी राजकुमारों को बचपन में यह नहीं बताया गया था, की इनके पिता और चाचा कि किस प्रकार मांडू राज्य में वीरगति हुई थी। कोई भी इन्हें यह बात नहीं बताता था, क्योंकि इन सभी भाइयों में इतना अधिक उत्साह, क्रोध और बल था, की इन्हें जिस भी दिन मालूम होता, की इनके पिता और चाचा के साथ क्या हुआ है, तो ये सभी उसी दिन मांडू राज्य पर आक्रमण कर देते। 


एक दिन उदल, व्यायाम शाला में जोर आजमा रहे थे, वहाँ उन्होंने मामा माहिल के पुत्र को बुरी तरह पछाड़ दिया।  वह रोते हुए अपने पिता माहिल के पास पहुंचा, और उन्हें सारी बात बताई। यह सुनकर मामा माहिल को क्रोध आ गया, वह पहले से ही अपने सभी भांजों से चिढ़ता था। उसने जाकर उदल को खरी-खोटी सुना दी, उसने ऊदल से कहा, यदि तुझमें इतना ही बल है, तो तू मांडू जाकर अपने पिता और चाचा की, बरगद के पेड़ पर लटकी हुई खोपड़ीयां क्यों नहीं ले आता, जो वहां सालों से अपने अंतिम संस्कार के लिए तरस रही है। 


यह सुनकर आल्हा-उदल सन्न रह गए, उनके तो समझ ही नहीं आ रहा था, कि यह मामा किस बारे में बात कर रहा है। तब मामा माहिल ने कहा, बाप को वेरी जो ना मारे, ताको मांस गिद्ध ना खावे। अर्थात जो पुत्र अपने पिता के शत्रु को ना मारे, अंत समय में उसका मांस गिद्ध भी नहीं खाते। यह सुनकर आल्हा ऊदल के तन-बदन में आग लग गई, दोनों भाई बड़े क्रोध में अपनी मां देवल के पास पहुंचे, और उनसे पूछा, कि मामा ने हमें ऐसा कैसे कह दिया, हमें तो बताया गया था, कि हमारे पिता युद्ध में वीरगति को प्राप्त हो गए थे, परंतु मामा तो कुछ और ही बता रहे हैं। 


पहले तो माता देवल ने बताने में संकोच किया, लेकिन जब आल्हा उदल ने जिद पकड़ ली, तो आखिरकार उन्हें बताना पड़ा, कि तुम्हारे पिता और चाचा की मांडू के राजकुमार राय करिंगा ने धोखे से हत्या कर दी, और उनके शीश मांडू के किले में स्थित बरगद के पेड़ पर टांग दिए, जो आज भी वहीं पर टंगे हैं। यह सुनकर आल्हा-उदल का खून खौल गया, वे दोनों उसी समय मांडू पर आक्रमण करना चाहते थे, इसलिए वे युद्ध की आज्ञा लेने राजा परमार की राज सभा पहुंच गए।


राजा परमार जानते थे, मांडू के दुर्ग को जीतना आसान नहीं है, उन्होंने दोनों भाइयों से कहा, अभी तुम सब राजकुमारों की आयु कम है, इसलिए सही समय का इंतजार करो, समय आने पर हम अवश्य ही मांडू पर आक्रमण करेंगे। आल्हा उदल उसी समय मांडू पर आक्रमण करना चाहते थे, महाराज के मुख से ऐसी बात सुनकर उनका क्रोध सातवें आसमान पर पहुंच गया। ऊदल ने उस भरी सभा में गरज कर कहा, महाराज आप उम्र की क्या बात करते हैं, बारह साल कुत्ता जीता है, तेरह साल सियार जीता है, एक शेर सोलह साल जीता है, और अगर कोई क्षत्रिय बिना युद्ध लड़े अठारह साल से अधिक जिए, तो उसके जीवन को धिक्कार है। 


यह सुनकर राज्यसभा में उपस्थित सभी सेनापतियों और शूरवीर योद्धाओं का खून ख़ौल गया। उदल की हुंकार से सभी के हृदय में वीर रस का संचार हो गया था। सभी योद्धा सालों पहले हुए धोखे का बदला लेना चाहते थे, यह देखकर राजा परमार ने मांडू पर चढ़ाई की आज्ञा दे दी। सेना संगठित की गई, आल्हा-उदल, मलखान-सुलखान,  राजा का पुत्र ब्रह्मजीत और राजपुरोहित का पुत्र देवा इस युद्ध में जाने के लिए तैयार हो गए। सभी शूरवीर भाई महोबा की सेना को लेकर मांडू की तरफ चल दिए। 


जब वे सभी मांडू की सीमा के नजदीक एक वन में पहुंचे, तो देवा जो उन सब में से सबसे अधिक बुद्धिमान थे, वे बोले, मांडू के दुर्ग को जीतना इतना आसान नहीं है, मांडू के दुर्ग पर आक्रमण करने से पहले हमें इस दुर्ग की कमजोरी का पता लगाना चाहिए। सब ने पूछा इस दुर्ग की कमजोरियां कैसे पता करें, तब देवा ने सुझाव दिया, हमें युद्ध से पहले इस दुर्ग का निरीक्षण करना चाहिए। तब एक योजना बनाई गई, जिसके अनुसार, ब्रह्मजीत ने सेना के साथ वही जंगल में पड़ाव डाला, और आल्हा-उदल, मलखान-सुलखान और देवा इन पांचों ने साधु का भेष बनाया, और मांडू के दुर्ग की ओर बढ़ चले। 


मांडू के दुर्ग से पहले एक नगर पढ़ता था, उस नगर का एक बहुत विशाल और सुदृढ़ दरवाजा था, जिससे गुजर कर ही नगर में प्रवेश किया जा सकता था। इस दरवाजे पर मांडू की सेना की एक टुकड़ी हमेशा तैनात रहती थी, जब वे पांचों व्यक्ति नगर में प्रवेश करने लगे, तो सैनिकों ने उनका परिचय पूछा। उनमें से देवा बोले, हम सभी हिमालय पर निवास करने वाले योगी हैं, हम हमेशा भ्रमण करते रहते हैं, हिमालय से दक्षिण भारत की यात्रा पर जा रहे हैं।  मार्ग में आपका सुंदर नगर पड़ता है, तो इसे देखने की हमारी बड़ी इच्छा है, इसलिए हम आपके नगर में आए हैं।


मांडू में साधु संतों का बहुत आदर होता था, इसलिए सैनिकों ने उन सभी को नगर में प्रवेश करने दिया। जैसे ही उन सभी ने नगर के भीतर प्रवेश किया, कुछ ही दूरी पर वह विशाल बरगद का वृक्ष था, उस वृक्ष पर आज भी दक्षराज और बच्छराज की खोपड़ी लटकी हुई थी। यह देखकर उदल का खून खौल गया, वह भूल गए कि वह साधु का भेष बनाकर आए हैं, वह उसी समय सैनिकों से युद्ध करना चाहते थे, लेकिन आल्हा और अन्य लोगों ने उदल को किसी प्रकार शांत किया। 


सैनिक सभी पांचों साधुओं को किले के भीतर राज महल में उपस्थित करते हैं, वहां पर सभी उनसे बहुत प्रभावित हुए। महाराज जंबे की पटरानी ने साधुओं से कुछ गाकर सुनाने को कहा। आल्हा-ऊदल और अन्य भाइयों ने राज्यसभा में सुंदर सुंदर भजन सुनाए, जो सभी को बहुत पसंद आए। महाराज जंबे ने साधुओं को दान दक्षिणा देना चाहा, लेकिन साधुओं ने लेने से मना कर दिया। साधु बोले, महाराज दक्षिणा का हम क्या करेंगे, हमने तो आप के किले की बहुत तारीफ सुनी है, इसलिए हम एक बार आपका किला देखना चाहते हैं, महाराज ने सहर्ष स्वीकृति दे दी। 


मांडू की राजकुमारी विजयाकुमारी स्वयं साधुओं को किले का दर्शन कराने ले गई, अंत में वे सभी घूमते घूमते किले के एक गुप्त स्थान पर पहुंचे। यह एक रास्ता था, जो किले के भीतर से होकर बबरी वन में खुलता था। इस मार्ग का उपयोग संकट के समय किले से बाहर निकलने के लिए किया जाता था। राजकुमारी इस गुप्त मार्ग के विषय में साधुओं को बताना नहीं चाहती थी, इसलिए वह इस मार्ग के विषय में बिना जानकारी दिए आगे बढ़ गई। 


तब आल्हा ने उनसे पूछा, राजकुमारी आपने इस मार्ग के बारे में तो बताया ही नहीं, यह मार्ग कहां खुलता है। यह सुनकर राजकुमारी को साधुओं की मंशा पर शक हो गया, और उसने अपनी तलवार निकाल ली, और साधुओं का वध करने के लिए दौड़ी। सभी साधुओं ने बिना हथियार के जैसे तैसे राजकुमारी का सामना किया, राजकुमारी ने साधुओं पर कई वार किए, पर साधु स्वयं को बचाने में सफल रहे। ऐसी हाथापाई में राजकुमारी बेहोश होकर गिर पडी, इसके बाद सभी साधु मौका देख कर किले से बाहर निकलने में सफल रहे। 


अब सभी भाइयों को किले की गुप्त जानकारियां मिल चुकी थी, वे सभी जंगल में सेना के साथ खड़े ब्रह्मजीत के पास पहुंचे, और उसे सारी योजना सुनाई। सभी भाई सेना को साथ लेकर मांडू के किले पर टूट पड़े। इधर मांडू  की तरफ से भी राजकुमार राय करिंगा और राजकुमार सूरज सेना लेकर युद्ध के मैदान में आ डटे। दोनों सेनाओं में घमासान युद्ध छिड़ गया। सैनिक सैनिकों से लड़ रहे थे, घुड़सवार घुड़सवारों से लड़ रहे थे, हाथी सवार हाथी सवारों से लड़ रहे थे, युद्ध के बीच में सभी भाइयों ने अपनी सेना को अलग-अलग टुकड़ियों में बांट कर, मांडू की सेना को कई ओर से घेर लिया। 


सभी भाइयों ने युद्ध में अद्भुत युद्ध कौशल दिखाया, मांडू की सेना ने भी महोबा की सेना का भरपूर मुकाबला किया। युद्ध करते-करते आल्हा और राय करिंगा आमने-सामने आ गए। राय करिंगा आल्हा से बोला, मैंने ही तुम्हारे पिता और चाचा को कोल्हू में पीसकर, उनके सर बरगद के पेड़ से लटका दिए थे, अब तुम सब भाइयों की बारी है। मैं तुम सब के भी मस्तक काटकर उस बरगद के पेड़ की शोभा बढ़ाऊँगा। यह सुनकर आल्हा की आंखों में खून उतर आया, दोनों के बीच जबरदस्त युद्ध हुआ। 


दोनों ने एक दूसरे पर घातक वार किए, लेकिन युद्ध कौशल में आल्हा, राय करिंगा से श्रेष्ठ साबित हुए, राय करिंगा के पांव उखड़ने लगे, इसीलिए वह आल्हा को छोड़कर उदल के पास युद्ध करने चला गया। उदल को तो इसी बात का इंतजार था, ऊदल ने राय करिंगा को युद्ध में गंभीर रूप से घायल कर दिया। यह देखकर उसके सैनिक उसे रण क्षेत्र से दूर ले गए, इसके बाद राय करिंगा के छोटे भाई सूरज ने मोर्चा संभाला। वह भी एक पराक्रमी योद्धा था, वह ऊदल पर टूट पड़ा, उदल ने भी उसको भरपूर जवाब दिया, दोनों में भयंकर युद्ध छिड़ गया। 


दोनों युद्ध कौशल में बराबर लग रहे थे, कई घंटों तक दोनों की तलवारे आपस में टकराती रही, कोई किसी से कम नहीं था, दोनों एक दूसरे पर घातक वार कर रहे थे, और सामने वाले के वार का प्रतिकार भी जानते थे। दोनों के बीच ऐसा जबरदस्त युद्ध हुआ, कि दोनों सेनाएं अपना युद्ध छोड़कर, इन दोनों का युद्ध देखने लगी। राजकुमार सूरज के ऐसे पराक्रम को देखकर, आल्हा ने भी उसके रण कौशल की तारीफ की। युद्ध करते करते दोनों योद्धा थककर चूर हो गए। शाम तक युद्ध अनिर्णीत ही रहा, ना तो उदल कम पड़े और ना ही सूरज। दोनों बराबर के योद्धा साबित हुए। 


दूसरे दिन फिर से युद्ध शुरू हुआ, अगले दिन राय करिंगा फिर से अपनी सेना का नेतृत्व करने के लिए तैयार था। दोनों सेनाओं में फिर से घमासान युद्ध छिड़ गया, दोनों सेना एक दूसरे पर टूट पड़ी, राय करिंगा ने आल्हा से युद्ध किया, और सूरज ने उदल से युद्ध किया। इस बार उदल के हाथों सूरज ने वीरगति प्राप्त की, और उधर आल्हा के हाथों राय करिंगा भी मारा गया। दोनों राजकुमारों के धराशाई होते ही मांडू की सेना के पैर उखड़ गए, और सैनिक किले की तरफ दौड़े। इसके बाद महोबा की सेना ने मांडू के किले को चारों तरफ से घेर लिया। 


किले के भीतर राजा जंभे, अपने राजकुमारों की मृत्यु का समाचार सुनकर घबरा गया। कोई रास्ता ना देख कर राजा जंभे किले के भीतर स्थित गुप्त मार्ग से सेना की एक टुकड़ी लेकर बाहर निकला। उस गुप्त मार्ग के दूसरे छोर पर ब्रह्मजीत अपनी सेना की टुकड़ी के साथ खड़ा था, वहां पर राजा जंभे और ब्रह्मजीत के बीच भयानक संघर्ष हुआ। इस संघर्ष में ब्रह्मजीत घायल हो गए, समाचार मिलने पर उदल तुरंत वहां पहुंचे और उन्होंने राजा जंभे से युद्ध किया, इस युद्ध में राजा जंभे उदल के हाथों मारा गया। 


राजा जंबे की मृत्यु होते ही महोबा की सेना यह युद्ध जीत चुकी थी। चारों तरफ आल्हा-उदल की, मलखान सुलखान की, और ब्रह्मजीत की जय जयकार होने लगी। तब आल्हा और उदल ने राय करिंगा और राजा जम्भे का मस्तक ले जाकर अपनी माता के चरणों में प्रस्तुत किया, और उनसे कहा कि आज हमने अपने पिता की मृत्यु का प्रतिशोध ले लिया है। इस प्रकार आल्हा-ऊदल ने अपनी माता देवल को दिया वचन पूरा किया। 


कुछ अन्य हिंदी कहानियां /Some other Stories in Hindi 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राजस्थान के लोकदेवता पाबूजी राठौड़ की कहानी Pabuji Rathore Story in Hindi

पाबूजी राठौड़ की कहानी Pabuji Rathore Story in Hindi   Pabuji Rathore Story in Hindi पाबूजी का जन्म जोधपुर जिले के कोलूमंड नामक गांव में हुआ था। जोधपुर रियासत में एक राजा हुए, जिनका नाम राव धुहड़जी था। राव धुहड़जी के छोटे भाई का नाम धांदलजी था, पाबूजी इन्हीं धांदलजी के पुत्र थे। पाबूजी की माता का नाम कमलादे था, इनकी पत्नी का नाम फूलनदे था तथा इनके मित्र चांदा और डामा नाम के दो भील भाई थे। ऐसा कहा जाता है, कि पाबूजी को जन्म देने वाली माता एक अप्सरा थी, तथा बाद में उनकी परवरिश कमलादे ने की थी, इसलिए कमलादे को ही पाबूजी की माता के रूप में जाना जाता है।  इस संदर्भ में एक कथा प्रचलित है, जो इस प्रकार है। एक बार एक स्वर्ग की अप्सरा रात के समय मारवाड़ की धरती पर विचरण कर रही थी, वहीं पास में एक तालाब था। अप्सरा की तालाब में स्नान करने की इच्छा हुई, तो वह उसमें स्नान करने लगी। उसी समय धांदलजी अपने घोड़े पर सवार होकर उधर से जा रहे थे। उन्होंने उस अप्सरा को देख लिया और वह उसके पास चले गए। 

एक कंजूस जिससे भगवान भी हार गए हास्य कहानी

एक कंजूस जिससे भगवान भी हार गए हास्य कहानी एक समय की बात है, एक बहुत ही कंजूस व्यक्ति था। उस व्यक्ति का नाम दानचंद था। उसके पास धन तो बहुत था, परंतु उसने कभी किसी को दान नहीं किया था। उसने प्रण ले रखा था, की जीवन में कभी किसी को कुछ भी दान नहीं करना है। उसके घर से कुछ किलोमीटर दूर गंगा नदी बहती थी, परंतु वह कभी गंगा स्नान करने नहीं गया, क्योंकि गंगा स्नान करने के बाद पंडे-पुजारियों को कुछ दान दक्षिणा देनी होती है। गंगा स्नान के बाद दान करना पड़ेगा इसी डर से वह कभी गंगा स्नान करने ही नहीं गया।  उसकी पत्नी उसे दान पुण्य करने के लिए कहती थी, परंतु वह कहता था, इतनी बड़ी दुनिया में हमारा छोटा सा दान करने से क्या होगा। एक दिन उसकी पत्नी ने कहा, अब तो आपका बुढ़ापा आ गया, आप दान पुण्य तो कुछ करते नहीं, कम से कम एक बार जाकर गंगा स्नान ही कर आओ। पत्नी की बात मानकर उसने गंगा स्नान करने की हामी भरी। उसके घर से गंगा नदी 12 किलोमीटर दूर थी, रास्ते में कहीं पैसा खर्च ना हो जाए, इसलिए वह 12 किलोमीटर पैदल ही चला गया।

भगवान श्री राम और कबीरदास जी का असीम भंडारा

भगवान श्री राम और कबीरदास जी का असीम भंडारा  (भाग 6) कबीरदास जी की कहानी [भाग 5] पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें  कबीर दास जी जब सिकंदर लोधी को परास्त करके काशी लौटे, तो पुरे काशी में कबीरदास जी की जय-जयकार हो गयी।  कबीरदास जी  के सत्संग में हजारों लोगो की भीड़ उमड़ने लगी, लोगों की कर्मकांड में आस्था कम हो गयी और अधिकतर लोग कबीरदास जी की भाँति राम नाम का जाप करने लगे। कबीर दस जी की प्रतिष्ठा बढ़ने से काशी के ब्राह्मणों को लगने लगा की कबीरदास जी के कारण अब उन्हें कोई नहीं पूछता, लोगों की कर्मकांडो में रूचि भी कम हो गयी है, इसलिए अब ब्राह्मणो की आय भी कम होने लगी थी। कुछ पाखंडी ब्राह्मणों ने सोचा, की  कैसे भी करके यदि कबीरदास जी को संतो का श्राप दिला दिया जाये, तो लोगों पर उनका प्रभाव भी समाप्त हो जायेगा और ब्राह्मणों को पुनः पहले जैसी आय होना प्रारम्भ हो जाएगी।  ब्राह्मणो ने सोचा, सभी संतों को कबीरदास जी के नाम से भंडारे का न्यौता दे देते है, जब कबीरदास जी भंडारे की व्यवस्था नहीं कर पायेंगें, तो सभी संत प्रसाद न मिलने के कारण उन्हें श्राप देकर जायेंगें, जिससे कबीरदास जी की कीर्ति नस्ट हो जाएगी

पंढरपुर के भगवान श्री विट्ठल की अदभुद कहानी Shri Vitthal Rukmini temple Story

भगवान श्री विट्ठल की अदभुद कहानी  Shri Vitthal Rukmini temple Pandharpur Story in Hindi महाराष्ट्र के पंढरपुर मैं एक ब्राह्मण थे, उनका नाम भक्त पुंडरीक था। वे शास्त्रों के मर्मज्ञ विद्वान थे, वे अपने वृद्ध माता-पिता की अकेली संतान थे। पुंडरीक जी अपनी पत्नी से बहुत प्रेम किया करते थे, और पत्नी जैसा कहती थी, वैसा ही किया करते थे। उनकी पत्नी एक स्वार्थी स्वभाव की महिला थी।वह अपने सास-ससुर के साथ ना तो उचित व्यवहार करती, और ना ही उनकी उचित देखभाल किया करती थी। पुण्डरीक जी यह सब जानते थे, परन्तु वे अपनी पत्नी को नाराज नहीं करना चाहते थे, इसलिए उसे कुछ नहीं कहते थे।  एक बार पुंडरीक जी के माता-पिता ने गंगा स्नान की इच्छा व्यक्त की। वे बोले बेटा हम वृद्ध हो गए हैं, परंतु हमने अभी तक गंगा जी का दर्शन नहीं किया, इसलिए हमें जीवन में एक बार तो गंगा स्नान कराने ले चलो। पुंडरीक जी ने पूछा गंगा स्नान के लिए कहां जाना चाहते है। माता-पिता बोले हमें काशी ले चलो, काशी में गंगा स्नान भी हो जाएगा, और भगवान विश्वनाथ के दर्शन भी हो जाएंगे। वापसी में काशी से प्रयागराज आ जाएंगे, वहां पर त्रिवेणी सं

राजस्थान के दानवीर भैरूसिंह भाटी की कहानी Rajasthan Ke Daanveer ki Kahani

राजस्थान के दानवीर भैरूसिंह भाटी की कहानी Rajasthan Ke Daanveer ki Kahani   एक समय की बात है, जोधपुर में एक राजा हुए, जिनका नाम मानसिंह था। महाराज मानसिंह तलवार और कलम के धनी थे। जब वह युद्ध में तलवार चलाते, तो उनका पराक्रम देखकर शत्रु रण छोड़ कर भाग जाते, और जब उनके हाथों में कलम आती, तो वे सुंदर-सुंदर भजनों और कविताओं की रचना करते। उनके द्वारा रचित कई छंद और कवितायेँ आज भी बहुत प्रसिद्द हैं।    महाराज मानसिंह के तीन रानियां थी, परंतु उनके कोई पुत्र नहीं था, केवल पुत्रियां ही थी। एक दिन राजा मानसिंह अपने दरबार में बैठे हुए अपने मंत्रियों से बातचीत कर रहे थे। उनके दरबार में एक चारण कवि थे, वे गंभीर मुद्रा में बैठे हुए विचार कर रहे थे। राजा मानसिंह ने उनसे पूछा, कविराज, आप इतने चिंतित क्यों दिखाई दे रहे हैं। कवि बोले, महाराज मैं मारवाड़ के भविष्य को लेकर चिंतित हूँ।

मार्कण्डेय ऋषि की कहानी जो संतों से आशीर्वाद पाकर अमर हो गए

मार्कण्डेय ऋषि की कहानी जो संतों से आशीर्वाद पाकर अमर हो गए   एक समय की बात है, काशी में एक विद्वान ब्राह्मण रहते थे, उनके कोई संतान नहीं थी। संतान प्राप्ति के लिए उन्होंने भगवान शिव की कठोर तपस्या की। एक दिन भगवान शिव उनकी तपस्या से प्रसन्न हो गए, और उनके सामने प्रकट होकर बोले, ब्राह्मण देव वरदान मांगिए। ब्राह्मण बोले, हे प्रभु आप तो जानते ही हैं, मेरे कोई संतान नहीं है, इसलिए मैं आपसे पुत्र प्राप्ति का वरदान चाहता हूं।    भगवान शिव बोले, आपको सुपुत्र चाहिए या कुपुत्र। ब्राह्मण ने भगवान शिव से पूछा, इन दोनों में क्या अंतर है।  भगवान शिव बोले, सुपुत्र की आयु कम होगी परंतु उससे तुम्हें सुख प्राप्त होगा, लेकिन कुपुत्र की आयु लंबी होगी, परंतु वह तुम्हें सारे जीवन दुख देता रहेगा। ब्राह्मण ने सोचा सारे जीवन के दुख से, कुछ दिनों का सुख ही अच्छा, ब्राह्मण ने भगवान शिव से कहा, प्रभु आप मुझे सुपुत्र प्राप्ति का वरदान दीजिए। भगवान शिव बोले, तुम्हें सुपुत्र की प्राप्ति होगी, परंतु उसक

एक अंग्रेज इंजीनियर और भगवान श्री कृष्ण की कहानी

एक अंग्रेज इंजीनियर और भगवान श्री कृष्ण की कहानी   यह घटना उस समय की है, जब भारत में अंग्रेजों का शासन था। एक बार उदासी संप्रदाय के महान संत स्वामी रमेश चंद्र जी बिहार की यात्रा पर थे। मार्ग में उन्होंने एक अंग्रेज को सन्यासियों के वस्त्र में देखा। एक अंग्रेज व्यक्ति को संन्यासियों के वस्त्र धारण किए हुए देखकर उन्हें बहुत आश्चर्य हुआ। उन्होंने उस अंग्रेज के पास जाकर उससे पूछा, श्रीमान आपने यह सन्यासियों का वेश क्यों धारण किया है।  ऐसा पूछते ही उस अंग्रेज की आँखों में आँसू आ गए। स्वामी जी ने उससे पूछा, क्या बात है, रोते क्यों हो। तब वह अंग्रेज बोला, मेरा बहुत सारा समय यूं ही व्यर्थ हो गया, मेरा जन्म भारत में नहीं हुआ, इसका मुझे बहुत अफसोस है। आगे उस अंग्रेज ने बताया उसके जीवन में जो यह परिवर्तन आया है, वह उस पर भगवान की एक विशेष कृपा है। स्वामी रमेश चंद्र जी ने उससे पूछा, क्या आप बता सकते हैं, कि आपके जीवन में ऐसी कौन सी घटना घटित हुई, जिसने आपके जीवन को परिवर्तित कर दिया।

एक रहस्यमयी ट्रेन की कहानी Mysterious Train story in Hindi

एक रहस्यमयी ट्रेन की कहानी Mysterious Train story in Hindi 14 जून 1911 को इटली के एक शहर रोम में एक ट्रेन कंपनी अपनी पहली ट्रेन जैनिटी की यात्रा के लिए 100 लोगों का चुनाव करती है। क्योंकि यह ट्रेन का पहला ट्रायल था, इसलिए कंपनी अपने प्रचार के लिए और ट्रेन के एक खूबसूरत सफर के लिए सभी यात्रियों की सुख सुविधाओं और खाने-पीने का इंतजाम भी करती है। इसके लिए ट्रेन में यात्रियों की देखभाल के लिए 6 कर्मचारी भी रखे जाते हैं, जो सफर के दौरान यात्रियों का ध्यान रखते हैं। इस प्रकार ट्रेन में कुल 106 यात्री सवार होते हैं। सभी यात्रियों का वापसी का भी पूरा इंतजाम होता है। निर्धारित समय पर ट्रेन अपना सफर शुरू कर देती है। ट्रेन में एक इंजन के अलावा तीन डब्बे और होते हैं, जिनमें सभी यात्री सफर कर रहे होते हैं।  ट्रेन चलते हुए इटली के खूबसूरत रास्तों से होकर गुजरती है, सभी यात्री खूबसूरत नजारों का आनंद लेते हुए यात्रा कर रहे थे, सब कुछ निर्धारित तरीके से चल रहा था।  लेकिन कुछ समय बाद ही उस ट्रेन के साथ कुछ ऐसा होता है, जिससे आ

झूठ बोलने वाले लड़के को मिला सबक हिंदी कहानी

झूठ बोलने वाले लड़के को मिला सबक हिंदी कहानी  एक बार, एक लड़का था जो रोज पहाड़ी पर भेड़ों को चराने जाता था। एक बार वह गाँव की भेड़ों को चरते देखकर उभ गया था। इसलिए अपना मनोरंजन करने के लिए, वह जोर जोर से चिल्लाने लगा, “भेड़िया आया! भेड़िया आया! भेड़िया भेड़ का पीछा कर रहा है!”

जब श्री राधा रानी बेटी बनकर चूड़ी पहनने आई - हिन्दी कहानी

जब श्री राधा रानी बेटी बनकर चूड़ी पहनने आई हिन्दी कहानी  यह कहानी है बरसाना की जहां राज-राजेश्वरी श्री राधा रानी जी का जन्म हुआ था। बरसाना में श्री राधा जी का एक मंदिर है, जिसके पास एक सेठ जी रहा करते थे। सेठ जी बहुत ही संपन्न थे, उनके पास सब कुछ था, आलीशान दुकान, भव्य भवन, तीन बेटे और तीन बहुएं। सेठ जी यूं तो हर तरीके से साधन संपन्न थे, लेकिन फिर भी उनके मन में बड़ा दुख था। उन्हें हमेशा लगता था, कि काश उनकी एक पुत्री भी होती। उन्हें लगता था अगर उनके एक पुत्री होती, तो वे अपने मन की सारी बात अपनी पुत्री को बताते और पुत्री को बहुत दुलार करते।  Sri-Radha-ji-ki-Kahani